शनिवार, 18 सितंबर 2010

सौ बार झुका आकाश यहाँ

पिछले दिनों मैं ब्लागिंग से भटक कर फेसबुक पर जा पहुँचा. वहाँ पुराने पुराने (जो अब देखने में भी पुराने पुराने से लगते हैं) दोस्त मिल गये. मैंने अपने एम.बी.ए. के साथियों का एक ग्रुप बनाया जिसका नाम रखा Nightingale`86. कल किसी ने पूछा कि मैंने अपने क्लास ग्रुप का नाम Nightingale`86 क्यूँ रखा है.  उनको बताते बताते मैंने सोचा क्यों न इसे अपने ब्लाग साथियों से बांटू. दर असल हमारी अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी का एक तराना है, ये मेरा चमन है मेरा चमन, मैं अपने चमन का बुलबुल हूँ. इसे अस्रारुल हक मजाज (आजकल मैं उनके शहर लखनऊ में रहता हूँ) ने 1936 में लिखा. इस तराने का बुलबुल ही Nightingale है.  मैंने अलीगढ़ यूनिवर्सिटी में छ: साल गुजारे और मैं कह सकता हूँ कि सचमुच वहाँ की शाम और सुबह मिश्र और शीरज़ जैसे थे क्योंकि तुर्की सीरिया  से लेकर मलेशिया तक के बुलबुल इस चमन में चहकते थे. और हवा में कश्मीर की केसर और केरल की समंदरी मस्ती, शाम में लखनऊ की तहजीब और बिहार का अक्खड़्पन   और बंगाल का बौद्धिक कुतूहल चमन से पा-बस्ता थे.  ये तराना इस तरह है;

ये मेरा चमन है मेरा चमन, मैं अपने चमन का बुलबुल हूँ

सरशार-ए-निगाह-ए-नरगिस हूँ, पा-बस्ता-ए-गेसू-संबल हूँ

ye meraa chaman hai meraa chaman, maiN apne chaman kaa bulbul huuN
sarshaar-e-nigaah-e-nargis huuN, paa-bastaa-e-gesuu-sumbul huuN

(chaman : garden; bulbul : nightingale; sarshaar : overflowing, soaked; nigaah : sight; nargis :flower, Narcissus; paa-bastaa : embedded; gesuu : tresses; sumbul : a plant of sweet odor)

ये मेरा चमन है मेरा चमन, मैं अपने चमन का बुलबुल हूँ

ye meraa chaman hai meraa chaman, maiN apne chaman ka bulbul huuN

जो ताक-ए-हरम में रोशन है, वो शमा यहाँ भी जलती है
इस दश्त के गोशे-गोशे से, एक जू-ए-हयात उबलती है
ये दश्त-ए-जुनूँ दीवानों का, ये बज़्म-ए-वफा परवानों की
ये शहर-ए-तरब रूमानों का, ये खुल्द-ए-बरीं अरमानों की
फितरत ने सिखाई है हम को, उफ्ताद यहाँ परवाज़ यहाँ
गाये हैं वफा के गीत यहाँ, चेहरा है जुनूँ का साज़ यहाँ

jo taaq-e-haram meN roshan hai, vo shamaa yahaaN bhii jaltii hai
is dasht ke goshe-goshe se, ek juu-e-hayaat ubaltii hai
ye dasht-e-junuuN diivaanoN kaa, ye bazm-e-vafaa parvaanoN kii
ye shahr-e-tarab ruumaanoN kaa, ye Khuld-e-bariiN armaanoN kii
fitrat ne sikhaii hai ham ko, uftaad yahaaN parvaaz yahaaN
gaaye haiN vafaa ke giit yahaaN, chheRaa hai junuuN kaa saaz yahaaN

(taaq-e-haram : vault in the sacred territory of Mecca; roshan : glowing; shamaa : flame; dasht : wilderness, desert; goshaa : corner; juu-e-hayaat : stream of life; junuuN : frenzy; bazm : gathering; vafaa : faithfulness; shahr-e-tarab : city of mirth; Khuld-e-bariiN : sublime paradise; armaan : hopes; fitrat : nature; uftaad : beginning of life; parvaaz : flight; saaz : song on an instrument)

ये मेरा चमन है मेरा चमन, मैं अपने चमन का बुलबुल हूँ

ye meraa chaman hai meraa chaman, maiN apne chaman ka bulbul huuN

इस बज़्म में तेघें खेंचीं हें, इस बज़्म में सघर तोड़े हैं
इस बज़्म में आँख बिछा'ई है, इस बज़्म में दिल तक जोड़े हैं
हर शाम है शाम-ए-मिस्र यहाँ, हर शब है शब-ए-शीरज़ यहाँ
है सारे जहाँ का सोज़ यहाँ और सारे जहाँ का साज़ यहाँ
जर्रात का बोसा लेने को सौ बार झुका आकाश यहाँ
ख़ुद आँख से हम ने देखी है, बातिल की शिकस्त-ए-फाश यहाँ

is bazm meN teGheN khenchiiN haiN, is bazm meN saGhar toRe haiN
is bazm meN aanKh bichaa’ii hai, is bazm meN dil tak joRe haiN
har shaam hai shaam-e-Misr yahaaN, har shab hai shab-e-Sheeraz yahaaN
hai saare jahaaN kaa soz yahaaN aur saare jahaaN kaa saaz yahaaN
zarraat kaa bosaa lene ko, sau baar jhukaa aakaash yahaaN
Khud aankh se ham ne dekhii hai, baatil kii shikast-e-faash yahaaN

(teGh : swords; saGhar : goblets; shaam-e-Misr : evenings of Egpyt; shab-e-Sheeraz : nights of Sheeraz, a famous city of Iran; soz : pain; zarraat : dust; bosaa : kiss; baatil : evil; shikast-e-faash: clear defeat)

ये मेरा चमन है मेरा चमन, मैं अपने चमन का बुलबुल हूँ
ye mera chaman hai mera chaman, main apne chaman ka bulbul hun

जो अब्र यहाँ से उठ्ठेगा, वो सारे जहाँ पर बरसेगा
हर जू ए रवां पर बरसेगा, हर कोहे गरां पर बरसेगा
हर सर्दोसमां पर बरसेगा, हर दस्तो दमां पर बरसेगा
खुद अपने चमन पर बरसेगा, गैरों के चमन पर बरसेगा
हर शहरे तरब पर गरजेगा, हर कस्रे तरब कड़्केगा

jo abr yahaaN se uThThega, vo saare jahaaN par barsegaa
har juu-e-ravaan par barsegaa, har koh-e-garaaN par barsegaa
har sard-o-saman par barsegaa, har dasht-o-daman par barsegaa
Khud apne chaman par barsegaa, GhairoN ke chaman par barsegaa
har shahr-e-tarab par garjegaa, har qasr-e-tarab par kaRkegaa

(abr : cloud; juu-e-ravaan : flowing streams; koh-e-garaaN : big mountains; sard-o-saman : open and shelter; dasht-o-daman : wild and subdued; qasr-e-tarab : citadel of joy)

ये अब्र हमेशा बरसा है, ये अब्र हमेशा बरसेगा
ये अब्र हमेशा बरसा है, ये अब्र हमेशा बरसेगा
ये अब्र हमेशा बरसा है, ये अब्र हमेशा बरसेगा
बरसेगा, बरसेगा , बरसेगा

ye abr hameshaa barsaa hai, ye abr hameshaa barsegaa
ye abr hameshaa barsaa hai, ye abr hameshaa barsegaa
ye abr hameshaa barsaa hai, ye abr hameshaa barsegaa
barsegaa, barsegaa, barsegaa…………………..


जितना सुंदर ये तराना है उतना ही सुंदर इसका संगीत भी. इस लिंक पर आप इसे सुन सकते हैं.  http://aligarians.com/2005/12/aligarh-tarana/

6 टिप्‍पणियां:

  1. अपने अल्मा मेटर से आप का जुड़ाव छलक पड़ा है। अच्छा लगा। लिंक पर संगीत नहीं है। ठीक कर दीजिए।

    बाकी सुबह और शाम के लिए मिस्र और ईरान पहुँचने पर मुझे कोफ्त हुई। अरुण यह मधुमय देश हमारा ...हेम कुम्भ ले ऊषा सवेरे नित ढलकाती सुख मेरे, मंगल कुमकुम सारा...प्रथम किरण का आना रंगिणि तूने कैसे पहचाना? ...
    उर्दू में ऐसी रचनाएँ अवश्य होंगीं, उन्हें भी डालिए।

    उत्तर देंहटाएं
  2. मेरा मतलब यह है कि क्या वहाँ ऐसे गीत भी गाए जाते हैं?

    उत्तर देंहटाएं
  3. शायद कवि ने यूनिवर्सिटी का अंतर्राष्ट्रीय चरित्र दिखाने के लिये ये उपमायें दी हों.

    उत्तर देंहटाएं
  4. आपके ब्लॉग में तो इतना सब कुछ पढ़ने को मिल गया।

    उत्तर देंहटाएं
  5. बड़े हसीन दिन होते हैं वो सबके जीवन के.

    उत्तर देंहटाएं